Ghalib Shayari Best 30+ Collection (गालिब शायरी )

Ghalib Shayari Best 30+ Collection

Hello guys aaj ka latest Ghalib Shayari lekar aagaya hu ye kaafi jayda pasand aayega aapko mujhe Ummed hai agar pasand aayega toh ise share jarur Kare ham aapke liye istarah ke Shayari lekar aate rahte hai
Toh Shayari ka enjoy lijiye

Ghalib Shayari Best 30+ Collection (गालिब शायरी )




💓आज फिर धूप की शिद्दत ने बड़ा💗 काम किया
हम ने इस दश्त🧡 को लम्हों में कँवल-फ़ाम किया😍
Aaj Phir  ki shidat ne bada kaam Kiya ham ne is dast ko lamho me kamwal faam Kiya




💓मेरे हुजरे को भी तशहीर मिली उस💗 के सब
और आँधी ने🧡 भी इस बार बहुत नाम💝 किया
Mere hujur ko bhi tashir mili us ke sab 
Aur aandhi ne bhi is baar bahut naam Kiya


Ghalib shayari

💜रोज हम जलती हुई रेत पे चलते 😍ही न थे
हम ने साए में💕 खजूरों के भी आराम किया💙
Roj ham jalti hue ret PE chalte hi na the
Ham ne saaye me khajuro ke bhi aaram Kiya




💞दिल की बाँहों में सजाते रहे आहों की 💕धनक
ज़ेहन को हमने 💖रह-ए-इश्क़ में गुम-नाम किया💛
Dil ki baanho me sajaate rahe aaho ki dhanak
Jehan ko hamne rah ae ishq mein gum naam  Kiya


Ghalib love Shayari

💕शहर में रह के ये जंगल की अदा❤️ भूल गए
हम ने इन शोख़ 💟ग़ज़ालों को अब से राम किया💙
Sehar mein rah ke ye jangal ki adaa bhul Gaye hamne in shohk gajaalo ko ab se ram kiya


❤️अपने पैरों में भी बिजली की अदाएँ 💗थीं मगर
देख कर तूर-ए-जहाँ 🧡ख़ुद को सुबुक-गाम किया💗
Apne paro mein bhi bijli ki adaaye thi magar
Dekh Kar tur ae janha khud ko subuk gaam kiya

Ghalib Shayari in Hindi

💝शाह-राहों पे हमीं तो नहीं 💓मस्लूब हुए
क़त्ल-ए-महताब💞 ने खुद को भी लब-ए-बाम किया💝
Saah raaho PE hami toh nhi maslub hue
Katl ae mahtaab ne khud ko bhi lab ae baam kiya


😍जाने क्या सोच के फिर इन को 🧡रिहाई दे दी
हम ने अब के 💝भी परिंदों को तह-ए-दाम किया💗
Jaane Kya soch ke Phir in ko rihaayi de di
Ham ne ab ke bhi parindo ko tah ae daam kiya
Ghalib Shayari Best 30+ Collection Ghalib Shayari

Ghalib shayari

💖ख़त्म होगी ये कड़ी धूप भी 'अम्बर' 🧡देखो
एक कोहसार 💝को मौसम ने गुल-अंदाम किया💛
Khatm hogi ye Kari dhup bhi ambar dekho
Ek kohsaar ko mausam ne gul andaam Kiya



💞गर्दिश का इक लम्हा यूँ बेबाक 💗हुआ
सोने चाँदी 🧡का हर मंज़र ख़ाक हुआ💗
Gardish ka ik lamha you bebaak hua
Sone chandi ka har manjar khak hua

Ghalib love Shayari

❤️नहर किनारे एक समुंदर💟 प्यासा
ढलते हुए सूरज💙 का सीना चाक हुआ💕
Nehar kinaare ek samundar pyasa
Dhalte hue Suraj ka Sina chaak hua




💜इक शफ़्फ़ाफ़ तबीअत वाला 💕सहराई
शहर में रह कर💙 किस दर्जा चालाक हुआ💟
Ik  sfaaf tabiyat Wala sahraayi
Sehar mein rah Kar kis darjaa chalak hua

Ghalib Shayari in Hindi

💙वो तो उजालों जैसा था उस की💟 ख़ातिर
आने वाला 💜हर लम्हा सफ़्फ़ाक हुआ💕
Wo toh ujaalo Jase tha us ki khatir
Aane Wala har lamha sffaaf hua



💝इक तालाब की लहरों से लड़ते❤️ लड़ते
वो भी काले 😍दरिया का पैराक हुआ🧡
Ik talaab ki lahro se larte larte
Wo bhi kaale dariyaa ka pairaak hua


Ghalib shayari

💝मौसम ने करवट ली क्या आँधी 😍आई
अब के तो💖 कोहसार ख़स-ओ-ख़ाशाक हुआ🧡
Mausam ne karwat like Kya aandhi aayi
Ab ke toh kohsaar khs ao khashaak hua




💖बातिन की सारी लहरें थीं 😍जोबन पर
उस के आरिज़ 💖का तिल भी बेबाक हुआ💗
Baatin ki saari lahre thi joban par
Us ke aarij ka til bhi bebaak hua

Ghalib love Shayari

💝चंद सुहाने मंज़र कुछ ❤️कड़वी यादें
आख़िर 'अम्बर💝' का भी क़िस्सा पाक हुआ😍
Chand suhane manjar kuch karwi yaade
Aakhir ambar ka bhi kissa paak hua



😍किसे ख़याल कि इशरत के बाब 💗कितने हैं
ये प्यास कितनी💞 है इस पर सराब कितने हैं💞
Kise khayal ki ishrat ke baab kitne hai
Ye pyas kitni hai is par saraab kitne hai

Ghalib Shayari in Hindi

💟सफ़ीना घाट लगा देख हम ये 🧡भूल गए
कि वो सफ़ीने 💙जो हैं ग़र्क-ए-आब कितने हैं💞
Safina ghaat laga dekh ham ye bhul Gaye
Ki wo safine Jo hai gark are aab kitne hai



💗तू ये न पूछ मेरे गाँव में हैं घर 🧡कितने
ये पूछ कौन 💞से घर में अज़ाब कितने हैं💘
Tu ye na puch mere gaau mein hai Ghar kitne
Ye puch Kon se Ghar mein ajaab kitne hai

Ghalib shayari


💟शरीक-ए-ग़म उसे कर तो लिया 🧡मगर सोचो
कि ज़िम्मेदार💗 के ज़िम्मे जवाब कितने हैं💖
Sarik ae Gam uske Kar toh liya magar socho
Ki jimmedaar ke jimme jawaab kitne hai



💝बड़ा गुरूर तुझको अज़ीम 💖लश्कर पर
कभी तो सोच💟 तेरे हम-रिकाब कितने हैं💞
Bara gurur tujhko ajim lashkar par
Kabhi toh soch Tere ham rikaab kitne haj

Ghalib love Shayari

💞लचकती शाख़ पे काँटे भी कम💗 नहीं होते
यही न देखिए 🧡किस पर गुलाब कितने हैं💘
Lachakti saakh PE kaante bhi Kam nhi hote
Yahi na dekhiye kis par gulaab kitne hai



💕मजबूरियों में बाँट ले जो 💗दर्द कौन है
पलकों से झाड़े 💕गुल पे जमी गर्द कौन है💜
Majburiyo mein baant le Jo dard Kon hai
Palko se jhaare Gul PE Jami gard Kon hai

Ghalib Shayari in Hindi

💛शोलों पे नंगे पाँव चला जा💕 रहा है जो
देखो वो 😍बुर्दबार जवाँ-मर्द कौन है💜
Sholo PE nange paau chala jaa Raha hai Jo
Dekho wo budrbaar jawaa mard Kon hai



💞सहरा सुलग रहा हो तो पानी 🧡बुझाएगा
पानी की आग ❤️को जो करे सर्द कौन है💘
Sahra sulag Raha ho toh paani bujhaayega
Paani ki aag ko Jo Kare sard Kon hai

Ghalib shayari 


🥰इन महवशों की भीड़ में ख़ामोश❤️ इक तरफ़
बैठा है जो छुपाए ❤️रुख़-ए-ज़र्द कौन है💗
In mahwasho ki bhir mein khaamosh ik taraf
Baitha hai Jo chupaaye rukh ae jard Kon hai



❤️भूले से आ गया हूँ फ़रिश्तों के🥰 देस में
किस से पता 🧡करूँ कि यहाँ फ़र्द कौन है💞
Bhule se aa Gaya hu farishto ke desh mein
Kis se pata karu ki yanha fard Kon hai



💛या रब मुझे चढ़ा दे किसी हादसे 💟की भेंट
देखू कि मेरा 💛शहर में हमदर्द कौन है💖
Yaa Rab mujhe chadha de kisi haadse ki bhent dekh ki Mera sehar mein hamdard Kon hai


Conclusion:
Hello dosto toh aapko Ghalib shayari pasand aaya ho toh ise share Kare 

Tags:
Ghalib Shayari Best 30+ Collection(गालिब शायरी ),
Ghalib shayari,
Ghalib love Shayari,
Ghalib Shayari in Hindi




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां